एन्डोटॉक्सिन (लिपोपॉलीसैकराइड, एलपीएस) इस्केरिकिया कोलाई, साल्मोनेला एन्ट्रिटाइडिस, लीजनेला न्युमोफिला, कैम्फिलोबैक्टर जेजुनी, विब्रियो कोलरा, शिगेला डिसेन्ट्री, स्यूडोमोनस एयरुजिनोसा जैसे तथा कई और ग्रैम-नेगेटिव जीवाणुओं द्वारा अनन्य रूप से उत्žपन्žन किया जाता है। एन्डोटॉक्सिन की सांद्रता ईयू में व्यक्त की जाती है।

1 ईयू = 100 पीजी एन्डोटॉक्सिन

1 पिकोग्राम = 10-12 ग्राम या 0.000000000001 ग्राम।

ग्रैम-नेगेटिव जीवाणु की किसी एक विशिष्ट नस्ल के बारे में यह निश्चित किया गया है कि लगभग 7000 जीवाणु कोशिकाओं में 1 ईयू होता है (स्कैन डाया लैब्ज, अप्रकाशित डेटा)।

ग्रैम-नेगेटिव से एलपीएस निर्गमन की प्रक्रियाएं

जीवाणु कोशिकाएं:

कोशिकाओं की नैसर्गिक मृत्यु और जीवाणुओं का विघटन (बैक्टीरिओलिसिस)

छाले (ब्लेब) के माध्यम से एलपीएस को छोडना या झिल्ली के फफोलों (मेम्ब्रेन वेसिकल) से उसका निर्गमन

सिरम प्रोटीन और पूरक के माध्यम से किया गया निर्गमन

परिचारक फैगोसाइट अन्तर्ग्रहण और उसके बाद एलपीएस के स्राव या उत्सर्जन की प्रक्रिया (एक्žजोसाइटोसिस) प्रतिजैविक के माध्यम से किया गया निर्गमन

एन्डोटॉक्सिन की पहचान हेतु लिम्युलस अमीबोसाइट लाइसेट (एलएएल) परखें:

< जैल-क्लॉट तकनीक

संवेदनशीलता सीमा संकीर्ण तथा सर्वश्रेष्žठ पर केवल अर्ध-परिमाणात्žमक

अधिकतम संवेदनशीलता: 0.03 ईयू/मिली

< क्रोमोजेनिक तथा एन्डपॉइन्ट-टर्बिडिमेट्रिक तकनीकें

क्रोमोजेनिक परखों में कोऐग्युलोजेन की जगह कृत्रिम क्रोमोजेनिक पेप्टाइड को थक्का जमाने वाले एंजाइम के लिये अधःस्तर (सबस्ट्रेट) के रूप में प्रयोग किया जाता है। क्रोमोजेनिक अधःस्तर का थक्का जमाने वाले एंजाइम के द्वारा जलीय विश्लेषण किया जाता है। इस प्रक्रिया में अंतिम क्रोमोजेनिक प्रभाग पीले रंग के साथ मुक्त होता है। अधिकतम संवेदनशीलता >0.01 ईयू/ मिली ।

< कायनेटिक-टर्बिडिमेट्रिक तकनीक

यह तकनीक एलएएल-एलपीएस प्रतिक्रिया की रफ्तार की दर को, या प्रतिक्रिया के एक निर्दिष्ट दृक्-घनता तक पहुँचने के लिए आवश्यक समय को मापती है। परिमाणात्मक। नमूना अवरोधन / वृद्धि के आंकलन में सहायता करती है। अधिकतम संवेदनशीलता: > 0.005 ईयू/मिलि

< एलिसा (ईएलआयएसए) तकनीकें और रॉकेट इम्यूनोइलेक्ट्रोफोरेटिक तकनीक

अ-प्रतिस्पर्धात्मक सी-पेप्टाइड एलिसा और मोनोक्लोनल प्रतिपिण्डों का प्रयोग करने वाली सैंडविच एलिसा तथा प्रोटीन के विरुद्ध खरगोश के प्रतिपिण्डों का प्रयोग करते हुए कोऐग्युलोजेन की परिमाणात्मक खपत मापने वाली रॉकेट इम्यूनोइलेक्ट्रोफोरेटिक परख, सभी उम्दा हैं। तथापि, पेचीदा और समय लेने वाली सेट-अप प्रक्रियाएं उनके व्यापक उपयोग को रोकती है।

एलएएल परख हस्तक्षेप (इन्टर्फिअरन्स) प्रक्रियाएं:

पीएच (pH) स्थितियाँ जिनका स्तर इष्टतम से नीचे है

नियंत्रण एन्डोटॉक्सिन स्पाइकों का एकत्रीकरण या अधिशोषण

कैटायन की अनुपयुक्त सांद्रताएं

एंजाइम या प्रोटीन मे परिवर्तन

गैर-विशिष्ट एलएएल उत्प्रेरण - कभी कभी एक हस्तक्षेप के रूप में

प्रक्रिया निर्धारित नहीं की जा सकती

Head Office & Central Laboratory:
Scan Dia Labs ApS
KELLERSHUS
Brejning Strand 1 E
DK - 7080 Børkop
Denmark
Tel: (+45) 3963 4855
mail@scandialabs.com